top of page

Ishq Nahi

By Kumari Ananya





Maana ki ishq nahi ab humare darmiyaan,

Lekin Dil-e-bekarari abhi baaki hai.

Tere mere furqat ke iss pal mein bhi,

Kurbat ki aarzoo abhi baaki hai.


By Kumari Ananya





105 views3 comments

Recent Posts

See All

Shayari-3

By Vaishali Bhadauriya वो हमसे कहते थे आपके बिना हम रह नहीं सकते और आज उन्हें हमारे साथ सांस लेने में भी तकलीफ़ होती है................... यूं तो भीड़ में खड़े हैं हम पर तनहाईयों का एहसास हर पल है यूं

Shayari-2

By Vaishali Bhadauriya उनके बिन रोते भी हैं खुदा मेरी हर दुआ में उनके कुछ सजदे भी हैं वो तो चले गए हमें हमारे हाल पर छोड़ कर पर आज भी हमारी यादों में उनके कुछ हिस्से भी हैं................... रोतो को

Shayari-1

By Vaishali Bhadauriya इतना रंग तो कुदरत भी नहीं बदलता जितनी उसने अपनी फितरत बदल दी है भले ही वो बेवफा निकला हो पर उसने मेरी किस्मत बदल दी है................... हम बेवफा ना कहेंगे उनको शायद उनकी भी कु

3 commenti

Valutazione 0 stelle su 5.
Non ci sono ancora valutazioni

Aggiungi una valutazione
Sunny Samanta
Sunny Samanta
30 nov 2022

Kya baat hai!!


Aap shayari kabse karne lag gaye?

Mi piace

dprasad.mandal
dprasad.mandal
25 nov 2022

Unique work!

Mi piace

sunaynarani123
sunaynarani123
25 nov 2022

Lovely shayari.

Mi piace
bottom of page