top of page

Chhatrapati Shivaji Maharaj

By Varad Ashtikar


जब चारों दिशाओं में था अंधकार,

हर हर महादेव की गरजि हुंकार


ईश्वर समान बने लोगों के लिए आपके विचार,

हर लिए आपने भारत के कलेश और विकार


पुनः प्रज्वलित की आपने ज्ञान की ज्योति,

स्वप्न देखा जिसमे खिल रही है हमारी मातृभूमि


अड़चन बन रहे थे आक्रांता इस स्वप्न में,

क्षण में मिला दिया उनको आपने मिट्टी में


नेत्रों में अग्नि का वास, मन मे थी आस्था,

आपके नाम से हर क्रूर भयभीत होता था


जब जल रहा था भारत, लुट रहा था भारत

आपके ही कारण मिली उसको सबसे राहत


टूट रहे मंदिर, उजड रहे थे घर वीर भी मान रहे थे हार,

जमा कर सबको आप बने एक महावीर पालनहार





जब पहली बार लहराया आपने तोरणा किले पर भगवा,

अशांत होने लगें औरंगजेब, क़ुतुबशहा और अदिलशहा


ये भगवा फैलता गया तीव्र गति से,

देखते देखते हरे विचलित हुए इससे


किये प्रचंड षड्यंत्र और छल आपसे,

हुए परास्त तोह बंधी बनाया आपके पिता को धोखे से


न डगमगाए आप, रखा आपने धैर्य

अवसर मिलने पर दिखाया आपने शौर्य


बने गड किले आपकी शान,

किन्तु प्रजा में थी आपकी जान


लिए विचार आपने सनातन धर्म से,

प्रभावित हुए लोग आपसे


हुए लोग आपके लिए कटने को तैयार,

एक मराठा लाख मराठा देता था सैकडों को मार


आपने किया धर्मांतरण का सर्वनाश,

होगए मुग़ल और पोर्तुगीज हताश


जीते आप हर युद्ध युध्दनीति के अनुसार

वनों में राज करता था आपका छापामार


छहसौ मावलों संग संहारा चालीस हजार यवनों को उंबरखिंड के युद्ध में,

घमंडी अफ़ज़ल के लिए धारण किया नरसिंह अवतार प्रतापगड के युद्ध में


स्त्रियों को दिया आपने माँ-बहन समान स्थान,

कोई न करता था आपकी सेना में मद्यपान


उदय किया आपने सनातन अस्त होते सूर्य को,

बनाया आपने शक्तिशाली और प्रबल उसको


बनाकर स्वतंत्र नौसेना, जीता आपने समुद्र को

क्या वीर थे आप जिसके चूमती पैर ये धरा हो


बलिदान और साहस की हो आप मूर्ति

श्रीमंत महाराज छत्रपति श्री शिवजी



By Varad Ashtikar




10 views3 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

3 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
21CH002 Harsh Rana
21CH002 Harsh Rana
Jul 01, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

🚩

Like

BOSS GAMING
BOSS GAMING
Jun 30, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Awesome

Like

Solar Tunes
Solar Tunes
Jun 29, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Amazing

Like
bottom of page