top of page

Bachpan

By Deepshikha


डायटिंग फिटनेस के दौर में, कुल्फी और चॉकलेट के लिए ललचाता बचपन ।

कभी फुव्वार्रों पर चढ कर पानी के छल्ले उड़ाता बचपन,

हमें याद भी नहीं अब कि कैसे बनाया करते थे,

जहाज उड़ाता तो कभी कागज की कश्तियां तैराता बचपन ।


उस पार कोई दिखता तो नहीं,

पर हम घड़ी घड़ी इंतजार में हैं,

खुशनसीब वो है या हम,

जो अब तक उसके प्यार में हैं,

बेचैन हैं, बेजार हैं, तो कभी मोहब्बत में बीमार हैं,

और इस पर इत्मीनान से बैठ कर रेत के घर बनाता है बचपन।


इक अधूरी मुलाकात दिल को खलती तो है,

पर अब ये एक बात अधूरी ही सही,

नजर फोन से ऊपर उठा कर तो देखो,

ज़िन्दगी इतनी भी बुरी नहीं,

ये भी क्या की हर इक बात में लॉजिक खोजते रहते हैं,

और यहां ज़रा ज़रा सी बात पर हैरान होता बचपन।



हम खेल से पहले , मैदान की लंबाई नापते हैं,

हुनर छोड़, हार जीत की इकाई आंकते हैं,

इसे पता नहीं कि क्रिकेट फुटबाल किस मौसी को कहते हैं,

बड़ी वाली गेंद से, छोटे छोटे छक्के मारता बचपन ।


जज्बात सहेज कर रखें हैं, पर मन तो आज़ाद है,

ज़रा चख कर देखो मियां, बूंदों में क्या स्वाद है,

चाय का कप हाथ में लिए, शीशे के अंदर से निहारते हो जिसे,

हां वही बिंदास बारिशों में नहाता बचपन।



अब शरारत शरारत करते हैं, खुद क्या कम शरारत करते थे,

दादी की गोद से निकलकर , नाना के कंधो पर चढ जाते थे,

अब कहां सोते वक़्त वो तारों को छत नसीब होती है।

जो तब सुना करता था, अब वहीं कहानियां सुनाता बचपन।


चलती हुई रेलगाड़ी में, खिड़की से बाहर झांकता बचपन।

भुला बिसरा सा पर कभी कभी याद आता बचपन।


By Deepshikha



59 views9 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

9 comentários

Avaliado com 0 de 5 estrelas.
Ainda sem avaliações

Adicione uma avaliação
Wasi Ahmad
Wasi Ahmad
08 de out. de 2023
Avaliado com 5 de 5 estrelas.

Childhood diaries!

Curtir

Nitin Tiwari
Nitin Tiwari
23 de set. de 2023
Avaliado com 5 de 5 estrelas.

Very Nice

Curtir

Kalpana Nayak
Kalpana Nayak
18 de set. de 2023
Avaliado com 5 de 5 estrelas.

Thank you for giving us a ride to that phase which is irreplaceable.

Curtir

Mayank Upadhyay
Mayank Upadhyay
18 de set. de 2023
Avaliado com 5 de 5 estrelas.

nice

Curtir

Varun Goyal
Varun Goyal
18 de set. de 2023
Avaliado com 5 de 5 estrelas.

Rail ki khidki se bahar jhakta bachpan❤️….can relate to…awesome writing😍

Curtir
bottom of page