top of page

Amar Path

By Nikhil Datar


जिंदगी की इस सफर में अब गिनती कैसी मै करुं उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...धृ.


जिप्सी बनकर कभी कभी इधर उधर भटकता हूं गिरे हुए वे टुकडे सभी पाने की कोशिश करता हूं क्या खोया और पाया इसको याद रखकर कूच करुं उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...१


पथ पर बिखरे काटो को मै आग बनकर जलाऊं चाहे कितने मंथन हो विष पीकर अमर हो जाऊं फूटा सारा आसमां तब भी अडिग बन मै आगे बढूं उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...२



अपनों को अपना माना लेकीन गुम हो गये वे सारे घोर निशा के अति रण में साथ आये अंजान सितारे आंधी के इस सागर को मारुति सम मै पार करुं उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...३ ...२

...२...

न झुका हटा और टूटा तब बदनामी का प्रयास किया पर वे क्या जाने क्या हूं मै अंतिम जय का है प्रण लिया टीकांओ की कश्ती बनाकर नये क्षितिज की ओर बढूं उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...४


छोड दी भले साथ सभी ने तब भी मै सबके साथ हूं अमर पथ को अजेय रखने मै तो निमित्त मात्र ही हूं विद्रोहीयों के जमघट में भी मै नित अपना कार्य करुं

उभरुं अपने ही भस्म से फिर मृत्यू से व्यर्थ क्यूँ डरुं...५

By Nikhil Datar



177 views8 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

bottom of page