• hashtagkalakar

Days

By Dr. Aditya Gadkar


Wherever I troll there they go with me,

I have come to a shop for a knob to see,

A man, gloomy, morbid, sordid man to be.

There the bulb shot down and again I left. Next day morning I went, he weren't there

I left, but a lady on a chair was there.



I hear he comes tomorrow again,

I left to home good marrow of pain,

the night and day had looked the same.

Following day I met him in the green,

he told me," He knew me well."

I said him," to just remember the dwell."

He checked my knob and fixed it free,

I went back home good marrow of gain.

I counted the day and night I spent on the knob,

the knob was fit and well and I sobbed.


By Dr. Aditya Gadkar





305 views8 comments

Recent Posts

See All

By Priya Diwan बैठी थी मैं अपने सारे गमों को छुपाए, हाल क्या है मेरा कोई जान ना पाए। चाह तो दिल खोल कर चिल्लाने की थी, पर हालत मेरी बेबसी की थी। समझाना मुश्किल था लोगों को, जो मैं खुद भी नहीं समझ पा र

By Ankit Kumar Roy ऐ मैखाने में लगी गुलाबों, तुम दिल्लगी न करो, कोई आंधी सा आएगा ,और तोड़ के चला जायेगा। तुम्हारे खुशबुओं की चाह नहीं यहां किसी को भी, यहां तो बस तुम्हारे पंखुड़ियों के प्यासे आते हैं।

By Ankit Kumar Roy जिस दर से कभी नज़रे चुरा लेता था, आज उस दर पे पड़ा हूं । के तेरी मोहब्बत के खातिर, मैं कुरान भी पढ़ा हूं। हर आयत में तेरी आवाज़ सुनता हूं। हर दुआ में तुझे याद करता हूं। के निकाह कुब