top of page

Ma

By Neeta Agarwal Doshi


Ma mehez ek shabd nahin

Ismein basa Poora ka poora brahmand hai

Ek sukoon se bhara jaadui sansaar hai

Jismein basa apne Jeevan ka saar hai

Gaur karein,

yahan na to koi jaadui chhadi hai

Na hi koi jhilmilati poshak

Hai to bas ek ek jeeta jaagta Farishta

Jise kehte hain hum ma…

Yeh who pari hai jo apne par kaatkar

humein udne de unmukt, neel gagan mein

Apni khushiyon ka kar balidaan

Humein de jo Jeevan daan

Mamatva ki is jaadui duniya mein

Na dukh hota hai

Na koi takleef

Hoti hain to Sirf khushiyan, aprampaar

Aur dher sara pyar

Na kal ki chinta

Na aaj ki fikar

Sirf Jee bhar ke jeene ki khuli chhoot

Na roti ki pareshani

Na kapde ki kami

Mamatva ki chhanv mein phalta phoolta ghar

Aur ghar mein chale apni manmani

Jahan Ichchaein saari poori ho

jahaan ki daant mein bhi hota hai dulaar

jahan ki Maar bhi lage jaise ek mand bayar.

Bina kuch kahe hamare dard door ho jaate hain

Khamoshi se humari galtiyan maaf ho jaati hain

Hum jo chahe, jab chahein aur jaise chahe, karein

Hum chahe aise-waise kaise bhi dikhein

Koi humein nahin aankta

Kyunki maa ki is jadui duniya mein

Sab hain anmol ratan

Yahan to sirf dil se dil ka vasta hota hai

Roop, rang aur baki dikhavaton se pare

sone se bhi khara Rishta

Is ka varnan kar paana hai kathin

Ma ki jadui duniya mein jeene ka mauka mil pana hi

Sabse bade khazane ko hai jaise pa lena

Superwoman kehkar inki maryada na ghatao

yeh pari hai super se upar, naam hai inka Mother!

Ma hai to jadu hai!!! Happy Mother’s Day!





माँ…

माँ महज़ एक शब्द नहीं

इसमें बसा पूरा का पूरा ब्रह्मांड है

एक सुकून से भरा जादुई संसार

जिसमें बसा अपने जीवन का सार है

गौर करें,

यहां ना तो कोई जादू छड़ी है

न ही कोई झिलमिलाती पोशाक

है तो बस एक जीता जागता फरिश्ता

जिसे कहते हैं हम माँ...

ये वो परी है जो अपने पर काटकर

हमें उड़ने दे उनमुक्त, नील गगन में

अपनी खुशियों का कर बलिदान

हमें दे जो जीवन दान

ममत्व की इस जादुई दुनिया में

ना दुख होता है

न कोई तकलीफ

होती हैं तो सिर्फ खुशियां, अपरमपार

और ढेर सारा प्यार

न कल की चिंता

ना आज की फ़िकर

सिर्फ जी भर के जीने की खुली छूट

ना रोटी की परशानी

ना कपड़े की कमी

ममत्व की घनी छांव में फलता फूलता अपना घर

और घर में चलती अपनी मनमानी

जहां इच्छाएं सारी पूरी होती हैं

जहां की डाँट में भी होता है दुलार

जहां की मार भी लगे जैसे एक मंद बयार।

बिना कुछ कहे हमारे दर्द दूर हो जाते हैं

खामोशी से हमारे गुनाह माफ हो जाते हैं

हम जो चाहें, जब चाहें और जैसे चाहें, करें

हम चाहे ऐसे-वैसे कैसे भी दिखें

कोई हमें नहीं आंकता

क्योंकि मां की इस जादुई दुनिया में

सब हैं अनमोल रतन

यहां तो सिर्फ दिल से दिल का वास्ता होता है

रूप, रंग और बाकी दिखावटों से परे

सोने से भी खरा है ये रिश्ता

जिसका वर्णन कर पाना है कठिन

मां की जादुई दुनिया में जीने का मौका मिल पाना ही

सबसे बड़े खजाने को है जैसे पा लेना

सुपरवूमन कहकर इनकी मर्यादा न घटाओ

ये परी है सुपर से भी ऊपर, नाम है इनका मदर!

मॉं है तो जादू है!!! मदर्स डे की शुभकामनाएँ


By Neeta Agarwal Doshi




1 view0 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
bottom of page