top of page

Maa

By Bhuvanesh Arya


देख खुद की उँगलियों को 

याद आ जाते है वो पलभर

एक एक कदम चलवाया-उठवाया

थाम करके तुमने ज़िन्दगी भर।

हो आँख से ओझल तुम्हारे

बिलक्ति घबराती दौड़ती तुम ।

है प्रेम-त्याग कितना ओ माँ तुम में

अफसर बनाने दूर भेजती खुद तुम।

हर रास्ते की धूप हो तुम

जिसने तपाया है मुझको

और मंजिलो पर लेजा करके ही

छाँव बन लगाया गले को।




वो मिश्र सी घोल देती 

हो तुम हर पकवान में कैसे

कैसे हो तुम ममता को सेती

वो अदभुत स्वाद प्यार कैसे।

देख तुम्हारे 'सुमन' व्यव्हार ही

आदर त्याग निष्काम स्वभाव ही

स्वाभिमान संवेदनशील संवाद ही

तुम ही मेरी ज़िन्दगी रूपी किताब भी।

जो आज बन पाया हूँ इस काबिल

कुछ खूबियां जो मुझमे भी है

है सब अंश मात्र ही तो तुम्हारा

सब रंग रूप विवेक तुझसे ही


By Bhuvanesh Arya





3 views0 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

Commentaires

Noté 0 étoile sur 5.
Pas encore de note

Ajouter une note
bottom of page