top of page

बीज

Updated: Feb 2

By Swati Sharma 'Bhumika'


सुबह के १० बजे थे | भूमिका अपनी माँ के पास जाकर

चुपचाप बैठ गई | माँ ने उसकी ओर देखा और मुस्कुराकर पुछा-

“नहा-धो आई |” भूमिका ने हाँ में सर हिलाया और कहा- “माँ

आप यहाँ बगीचे में क्या कर रही हो ?”


माँ ने कहा- “तरबूज़ के बीज बो रही हूँ | तुम्हें तरबूज़ पसंद

है ना ?” भूमिका ने कहा- “हाँ माँ यह देखिये कुछ बीज वहां उस

कोने में भी रखे थे | शायद आप से गिर गए होंगे, तो मैं इन्हें भी ले

आई | इन्हें भी बो दीजिये | माँ ने देखा और कहा- “नहीं मेरी बच्ची

इन बीजों को मैंने ही वहां डाला था | क्योंकि यह ख़राब बीज हैं |

यदि हम ख़राब बीज अपने बगीचे में बोएँगे तो, हमें स्वस्थ पौधे

नहीं मिल सकते | अतः स्वस्थ बीजों की पहचान करने के पश्चात्

ही हमें उन्हें बगीचे में बोना चाहिए |”


भूमिका ने कहा- “अच्छा माँ परन्तु, हम किस प्रकार स्वस्थ

एवं अस्वस्थ बीज में अंतर कर सकते हैं? एवं यदि हम अस्वस्थ

बीज बो दें तो उसके क्या नुक्सान होंगे |”



माँ ने कहना शुरू किया- “बीजों को पानी से भरे बर्तन में

डालकर हम सरलता से पता लगा सकते हैं | जो बीज पानी में

ऊपर तैरेंगे, वे अस्वस्थ बीज होंगे एवं जो बीज पानी के भीतर डूबे

रहेंगे, वे स्वस्थ बीज होंगे | यदि हम अस्वस्थ बीज बोएँगे तो, हमें

बीमार पौधे मिलेंगे, जो कि फल भी अच्छे नहीं देंगे | इसीलिए

हमें स्वस्थ बीज ही बोने चाहिए और बेटा जो सीख मैंने तुम्हें

स्वस्थ पौधे के बारे में दी है वही सीख हमारे जीवन में भी बहुत

काम आती है | ”भूमिका ने आश्चर्य से पूछा- “वह कैसे माँ?” माँ ने

बताया- “जिस प्रकार अस्वस्थ बीज ख़राब पौधा देते हैं | अतः

उनके ख़राब फल खाने से हम अस्वस्थ हो जाते हैं | ठीक उसी

प्रकार यदि हम हमारे मन में अस्वस्थ विचारों को जगह देंगे तो, वे

हमारी सोच, आचरण एवं शरीर को अस्वस्थ करते हैं | इसीलिए

हमें बुरे विचारों का त्याग कर अच्छे एवं स्वस्थ विचारों को

अपनाना चाहिए | जिससे हमारा जीवन सुधरे | अतः हम स्वयं का

एवं दूसरों का भी कल्याण कर सकें | इसीलिए हमें अपने बच्चों को

अच्छे संस्कार एवं स्वस्थ विचारों से पोषित करना चाहिए | ताकि

वे आगे जाकर खूब प्रगति करें एवं एक सकारात्मक और स्वस्थ

जीवन जी सकें | यह सीख बच्चों के साथ-साथ हम बड़ों को भी

अपने जीवन में अपनानी चाहिए, अपने आचरण में उतारनी

चाहिए |”


भूमिका को अब माँ की बात भली प्रकार समझ आ चुकी थी

| अतः उसने माँ से वायदा किया कि वह उनकी यह सीख जीवन

भर याद रखेगी एवं उसे अपने आचरण में भी उतारेगी | दोनों

माता-पुत्री बगीचे से निकलकर घर के भीतर चली गईं |


शिक्षा :- “ज्ञान का लाभ तभी है, जब हम उसे अपने आचरण में उतारें |”


By Swati Sharma 'Bhumika'




120 views29 comments

Recent Posts

See All

He Said, He Said

By Vishnu J Inspector Raghav Soliah paced briskly around the room, the subtle aroma of his Marlboro trailing behind him. The police station was buzzing with activity, with his colleagues running aroun

Jurm Aur Jurmana

By Chirag उस्मान-लंगड़े ने बिल्डिंग के बेसमेंट में गाडी पार्क की ही थी कि अचानक किसी के कराहने ने की एक आवाज़ आईI आवाज़ सुनते ही उस्मान-लंगड़े का गुनगुनाना ऐसे बंध हो गया मानो किसी ने रिमोट-कंट्रोल पर म्य

٢٩ تعليق

تم التقييم بـ ٠ من أصل 5 نجوم.
لا توجد تقييمات حتى الآن

إضافة تقييم
RARE
RARE
٢٢ فبراير
تم التقييم بـ ٥ من أصل 5 نجوم.

Awesome

إعجاب

suzannehembrom
١٥ فبراير
تم التقييم بـ ٥ من أصل 5 نجوم.

Awesome

إعجاب

prabavathinew
١٥ فبراير
تم التقييم بـ ٥ من أصل 5 نجوم.

Thoughtful

إعجاب

aswin ka
aswin ka
١٥ فبراير
تم التقييم بـ ٥ من أصل 5 نجوم.

Welldone

إعجاب

rajkiran sanadhya
rajkiran sanadhya
١٥ فبراير
تم التقييم بـ ٥ من أصل 5 نجوم.

Very nice

إعجاب
bottom of page