top of page

आईना

By Sarika Vishal Dabhade


कोशिश की कुछ आईना देखने दिखाने की ,

आज कुछ गुज़रे कल को टटोला,

लिखने के लिए जूझा बहुत शब्दों से,

पर शब्दों का मिलना अभी बाकी है..


आज की कलम से..

कुछ इंसानों में भगवान दिखे

कुछ में पैसे नोचते हैवान

इन भगवान का दर्जा लिए बैठे हैवानों का

इंसान बनना शायद अभी बाकी है..


खुले आम सांस लेते थे सभी..

हवा के पैसे देते आज देखा है..

गिरते देखी इंसानियत, कालाबाज़ारी के नाम पर..

इन इंसानो में इंसानियत का आना

शायद अभी बाकी है..


एक तीखा कटाक्ष -

बचपन में केंद्र / राज्य / कांग्रेस / भाजपा ऐसी सरकार सुनी थी...

नाम वाली मोदी सरकार कुछ सालों से सुनी है,

वापस मोदी सरकार से केंद्र सरकार का सफर

लोकतंत्र में तय होना शायद अभी बाकी है।


दिल की कलम से

समझदारी का शायद कुछ गुरुर हो गया था हमें ..

पर "था" और "है" का फर्क..

किसी अपने को खोकर समझ आया,

न जाने और किन किन शब्दों के मायने समझना अभी बाकी है ।








जिस देश में सभी ने मिलकर लड़ी आज़ादी की लडा़ई,

वहाँ क्यों है आज, धर्म की ऐसी खाई,

धर्म की इस राजनीति में,

विकास का मुद्दा आना अभी बाकी है ।


सत्ता की इस बाज़ारी में..

नेता बिकते देखना आज आम है ..

एक वोट के लिए ही सही,

खुद की सरकार गिरने देने वाला..

ईमानदार अटल जी जैसा कोई..

नेता आना अभी बाकी है ।


राजनीति में तो रातोंरात बात कुछ यूँ पलटती है..

कल तक जो तख्त पर विद्यमान था..

आज उसे "भूतपूर्व" का ही सम्मान है..

रातोंरात पलटने वाले इस राजनीति में

संविधान के नियम ज़रा बदलना..

शायद अभी बाकी है ।


Education के नाम पर पैसों का बाज़ार है..

Degree की इस दौड़ में Students सिर्फ औज़ार हैं..

पैसों और Position की इस रेस में..

मूल्यों का आना अभी बाकी है ।


गणतंत्र का चौथा स्तंभ है, ये "Media"

जिसको अभी जकड़ी है, TRP की बेड़ियाँ..

TRP की रेस छोड़ सच्चाई का आईना

Media ने दिखाना शायद अभी बाकी है ।



By Sarika Vishal Dabhade





112 views35 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

35 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
Naresh Nandurkar
Naresh Nandurkar
Jun 30, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Bahut sundar

Like

Sushma Nandurkar
Sushma Nandurkar
Jun 30, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

So nice

Like

Sushma Nandurkar
Sushma Nandurkar
Jun 30, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Masta..so

Like

Ruchita Nandurkar
Ruchita Nandurkar
Jun 25, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Good one

Like

Vishal Dabhade
Vishal Dabhade
Jun 25, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Great one.. very true in today's

Like
bottom of page