top of page

Prem

By Deepshikha


प्रेम अकस्मात प्रत्यक्ष नहीं होता,

प्रथमत: प्रेम अंकुरित होता है आत्मा में,

एक अंतराल तक सुषुप्त विचरता है अवचेतना में,

जैसे जाल बिछाने के बाद शिकारी बस करते हैं इंतजार,

आहिस्ता आहिस्ता विकसित होता है स्मृतियों में,

फिर होता है जीवंत विचारों में,

उतरता है रुधिर में,

फैलता है देह में, अस्थियों में,

वस्तुत: होने लगता है पूर्ण रूप से स्पष्ट स्वभाव में,

प्राकृति में, प्राथमिकताओं में, परिस्थिओं में....



ऐसे ही, परिस्थिओं के पलटने पर,

जब कभी प्रेम के बंधन टूटते हैं,

एक बार फिर होता है मूल्यांकन प्राथमिकताओं का,

लाज़वाब होती है प्राकृति,

अदम्य होता जाता है स्वभाव,

एक जहर उतरता है रुधिर में, फैलता है देह में,

टूटते है आईने, प्रतिबिंब

स्मृतियाँ चुभती हैं चेतना में,

विचार करते हैं आघात अवचेतना पर,

लगती है चोट आत्मा को।


प्रेम क्षणिक ही प्रकट नही होता,

और ना ही क्षण भर में होता है लुप्त,

प्रेम आत्मा से लेता है जन्म,

और प्रेम के आघात भी लगते है, आत्मा पर,

आत्मा को करते हैं बंजर...


By Deepshikha



57 views7 comments

Recent Posts

See All

The Hypocritic Hue

By Khushi Roy Everything is fair in love and war, in passion and aggression. Because every lover is a warrior and every warrior a lover. Let it be, the vulnerability of a warrior or the violence of a

Stree Asmaanta

By Priyanka Gupta असमानता नहीं महिलाओं की पुरुषों पर निर्भरता वास्तविक दुर्भाग्य है महिला और पुरुष के मध्य भेद प्रकृति प्रदत्त है,लेकिन भेदभाव समाज की देन है।किसी एक लिंग को दूसरे पर वरीयता देना और लि

7 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
Wasi Ahmad
Wasi Ahmad
Oct 08, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

आपकी कविता जीवन और प्रेम के गहरे और अद्वितीय पहलुओं को एक बेहद सुंदर तरीके से प्रस्तुत करती है। प्रेम की महत्वपूर्ण भूमिका को आत्मा के रूप में व्यक्त करना और जीवन के मोमेंट्स को एक अद्वितीय दृष्टिकोण से देखना यह आपकी कविता का महत्वपूर्ण संदेश है।

Like

Nitin Tiwari
Nitin Tiwari
Sep 23, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Insightful view on reimagining love.

Very Nice :)

Like

Varun Goyal
Varun Goyal
Sep 18, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Rooh se rooh tak ka prem❤️

Like

Aman Singhal
Aman Singhal
Sep 18, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Wow, you beautifully tells us how love starts inside us like a tiny seed, then sneaks into our memories, and suddenly it's all around us, in everything we do and see. It's like love just takes over!

Like

Pallavi Singla
Pallavi Singla
Sep 18, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

I'm still wondering to find my love!


Amazing Read!

Like
bottom of page