• hashtagkalakar

अब

By Anurag



अब जो इतना प्यार करने लगी हो तो कभी कम ना करना

गलती से मेरी कोई बात बुरी लग जाये तो ग़म ना करना


अब जो हाथ थामा है तो तन्हाई मे अकेला मत छोड़ना

रूठ जाना पर मेरा दिल जो अपने पास रखा है कभी ना तोड़ना


अब जो गले से लगाया है तो कभी दूर ना करना

पास ना भी बुलाओ,पर दिन मे एक पल निकालकर याद जरूर करना





अब जो महसूस किया है मेरे इश्क़ को तो कभी भूल ना जाना

इकरार ना सही , पर मेरे इज़हार को नजर अंदाज कर अपने जिद मे घुल ना जाना


अब जो अपने दिल मे आने का मौका दिया है , तो कभी दिल के दरवाजे सटा ना लेना

सारी खुशियां कदमों पर होगी तेरी,बस अपनी नजरे मुझसे हटा ना लेना


अब जो पास आ गयी हो तो दूर जाने का बहाना मत ढूँढ़ना

बस अपना बना कर रखना और दिल करे तो प्यार से हाथ पर हाथ रखना ना भूलना


अब जो इश्क़ किया है तो खुद को अपनी ही बंदिशों मे ना थाम लेना

एक लम्हे की नाराजगी को अपनी जिंदगी ना मान लेना


अब जो इश्क़ का स्वाद चख लिया है तो इसकी मिठास अपने होठों से जाने ने देना

लेखनी हो तुम मेरी ,इतना ख्याल रखना इसका लिखा कभी मिटने ना देना



By Anurag




18 views0 comments

Recent Posts

See All

By Dharshini Sivabalan Prologue: Dear you, The wrinkled pages in my notebook are tired of hearing about you, But when we left that park, I left a thousand words unsaid, While all you left me was a fog

By Sawani Sameer Karpe When I see snow, I feel a sudden glow. In the thrush cross pavement, it feels like a melody. A thousand reasons, I should listen to my heart. And a million more to glow from the

By Antarjit Das Those curves…….. Worked just as a magnet; Pulled me in her. Key of a shut door She was like; Now it’s thrown open wide. Light fades; Moon shines With the stolen beauty. And this tramp