• hashtagkalakar

सदा

By Sandeep Sharma





सहरा में जैसे सराब नज़र आ रही है

ज़िन्दगी हाथों से फिसलती जा रही है

अब मैं बिखरी हसरतों को समेटूं भी तो कितना

चाक-दामन से ख़ुशियाँ निकलती जा रही हैं

एक तेरा ही सहारा है अब मेरे हम-नवा

क्या तुझ तक मेरी सर्द आह आ रही है


रफ़्ता-रफ़्ता बुनता रहा जिस ज़ीस्त की चादर को

वही मैली चादर अब सिमटती जा रही है

राएगाँ न हो ये ज़िन्दगी का सफ़र एक मुलाक़ात तो कर

हाल से मेरे हो तू भी वाक़िफ़ दिल से यही सदा आ रही है

किन मरहलों से गुज़र रहा हूँ मैं मेरा यक़ीन तो कर

अब ना जीने का है मज़ा और न मौत आ रही है


By Sandeep Sharma




19 views1 comment

Recent Posts

See All

By Dr C M Gupta Atal जिंदगी में हो रहे हैं हादसे ही हादसे। हम मुसीबत में पड़े हैं घुड़चढ़ी के बाद से.1 वो गईं हैं मायके तब साँस ली है चैन की. चार दिन हम भी फिरेंगे हर तरफ आज़ाद से.2 हमने वरमाला से पाया या

By Sandeep Sharma ये वहम का जाल मैं अब तोडना चाहता हूँ तुम्हारी आँखों से ख़ुद को देखना चाहता हूँ कोई ख़्वाब अब मुकम्मल कैसे होगा मैं हर पल तुम्हारे साथ जागना चाहता हूँ ये हसरतों की फ़िल्म अभी अधू

By Shishir Mishra मै किसी ज़िंदा ए हयात को ज़िंदा कभी लगा भी नहीं, और किसी मुर्दा ए दफ्तर को लगा मै मरा भी नहीं, कागज़ के रंगों को उजाड़ मै खुद पर परतें चढ़ाता रहा, रंग ए गुल तो साज़िश हुई हुआ मै हरा भी नही