top of page

रूह

By Aashish Thanki


आखिर रूह छूट ही गई

मिट्टि के ढेला सा तन जल गया

और राख ही राख पीछे छूट गई

आखिर रूह छूट ही गई

समंदर की गहराइयों में

सम्हाल रखी थी सांसें

गहरी कोई ठिस लग ही गई

आखिर रूह छूट ही गई


मन्नत के धागे सी

दिल से बांध रखी थी

रेशम ये डोरी, गांठ से निकल ही गई

आखिर रूह छूट ही गई

आंख से रोशनी

दिल से धड़कन

जिस्म से जान निकल ही गई

आखिर रूह छूट ही गई


By Aashish Thanki






38 views4 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

4 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
Rajesh Joshi
Rajesh Joshi
Oct 13, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Ashishji, you have great sense of poetry and your words are direct from heart ❤️.

आखिर रूह छूट ही गई... what a touchy lines!!!

Like

hari Kshatri
hari Kshatri
Sep 15, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Nice lines

Like

Sam Tayson
Sam Tayson
Sep 12, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Great work 👏🏻

Like

manesh dhanani
manesh dhanani
Sep 12, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Great

Like
bottom of page