top of page

दोष

By Rimjhim Nigam


दूर सलीके नज़र गयी तो,

देखा एक बग़ीचे में ।

कली वो खिलखिलाती, इठलाती सी,

सैर करती थी झूलों पे ।


नन्हें पावों से नाप डालती,

धरती के हर कण-कण को ।

मिश्री सी आवाज़ से अपनी,

पका डालती बड़े-बूढ़ों को ।


यूँ ही एक दिन मदमस्त होकर,

चली जा रही थी डगर पे ।

पीछे से जानी पहचानी,

दस्तक दे दी परछाई ने ।



परछाई जो व्यापक हुई इतनी,

मासूमियत का आलिंगन करके ।

फँस गयी भोली निष्कपटता,

जल भँवर की गहराई में ।


सुनकर आग लगी सीने में श्रोता,

शांत ना करना तुम उसको ।

जो गिर गए निर्ममता की खाई में,

उनका दोष आख़िर किसको ?


By Rimjhim Nigam




103 views27 comments

Recent Posts

See All

Maa

By Hemant Kumar बेशक ! वो मेरी ही खातिर टकराती है ज़माने से , सौ ताने सुनती है मैं लाख छुपाऊं , वो चहरे से मेरे सारे दर्द पढती है जब भी उठाती है हाथ दुआओं में , वो माँ मेरी तकदीर को बुनती है, भुला कर 

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Pain

By Ankita Sah How's pain? Someone asked me again. " Pain.." I wondered, Being thoughtless for a while... Is actually full of thoughts. An ocean so deep, you do not know if you will resurface. You keep

27 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
Tarun Nigam
Tarun Nigam
Jun 30, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Best

Like

VLC ADMIN (CFL)
VLC ADMIN (CFL)
Jun 21, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

fantastic

Like

Sadanand Singh
Sadanand Singh
Jun 20, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

nice

Like

Salil Nigam
Salil Nigam
May 25, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

Loved it sis😘💓💓

Like

Nitij Mishra
Nitij Mishra
May 22, 2023
Rated 5 out of 5 stars.

One of your best

Like
bottom of page