• hashtagkalakar

फौजी

By Rajneesh Singh Yadav



हर राह पर चल चुका है तू ,

संघर्ष की ज्वाला से तप चुका है तू।


रुकना न अब , थमना न अब ,

तू खुद की अब पहचान बना।


मंज़िल तेरी है अब निकट ,

विजय होना है तुझको ऐ मुसाफिर ,

विप्पति चाहे जितनी हो विक।





दुर्गम परिस्तिथि भी आएगी ,

मन तेरा विचलित कर जाएगी।


जो भयभीत न हो , तू ऐसा वीर है ,

दुश्मन के लिए तू अंगरी तीर है।


वक़्त की भांति चलता जा , तू लड़ता जा ,तू लड़ता जा।


परिवार से तू है अलग , मिलती न उनकी एक भी झलक ,

फिर भी है सीना तान खड़ा ,

है दुश्मनो से बेखौफ लड़ा।


जय हिन्द।


By Rajneesh Singh Yadav




270 views14 comments

Recent Posts

See All

By Aliza Ali You could be a wonderful parent at 18, a business tycoon at 50, or simply a content homebody at 70. We’re constantly ambushed by the preordained societal norms, which we as individual

By Dharshini Sivabalan Prologue: Dear you, The wrinkled pages in my notebook are tired of hearing about you, But when we left that park, I left a thousand words unsaid, While all you left me was a fog

By Sawani Sameer Karpe When I see snow, I feel a sudden glow. In the thrush cross pavement, it feels like a melody. A thousand reasons, I should listen to my heart. And a million more to glow from the