• hashtagkalakar

पापा

By Varuna Sehrawat






By Varuna Sehrawat




78 views0 comments

Recent Posts

See All

By Priya Diwan ये रिश्ते बड़े ही नाज़ुक होते हैं, उम्मीद की राह पर चलते रहते हैं। ऐसा कोई रिश्ता नहीं जहां उम्मीद ना हो, और उन्हीं उम्मीदों के टूटने का गम ना हो। जीवन साथी से हर राह पर साथ होने की उम्

By Priya Diwan बैठी थी मैं अपने सारे गमों को छुपाए, हाल क्या है मेरा कोई जान ना पाए। चाह तो दिल खोल कर चिल्लाने की थी, पर हालत मेरी बेबसी की थी। समझाना मुश्किल था लोगों को, जो मैं खुद भी नहीं समझ पा र

By Ankit Kumar Roy ऐ मैखाने में लगी गुलाबों, तुम दिल्लगी न करो, कोई आंधी सा आएगा ,और तोड़ के चला जायेगा। तुम्हारे खुशबुओं की चाह नहीं यहां किसी को भी, यहां तो बस तुम्हारे पंखुड़ियों के प्यासे आते हैं।