• hashtagkalakar

चांद

By Suchita Joshi


आज भी चांद निकलने पर

दौड़ पड़ती हूं छज्जे की ओर

इस पार से तकती हूं मैं

पर उस पार तू अब नहीं होता ।।


आज भी शीतल चांदनी रातों में

घंटों निहारती हूं चांद को

पर तेरे पास होने का वो एहसास

ना जाने क्यूं अब नहीं होता ।।





आज भी करवाचौथ के दिन

छेड़ते हैं सब तेरा नाम लेकर

पर मेरे चेहरे का रंग पहले सा

सुर्ख़ लाल अब नहीं होता ।।


आज भी चांद देता है गवाही

हमारे इश्क़ के फसानों की

तेरे झूठे वादों और कसमों पर

पहले सा यकीं अब नहीं होता ।।


इस व्हाट्सएप इंस्टा के ज़माने में

चांद वाला इश्क़ अब नहीं होता

सच बोलूं तो तेरा मेरा वाला चांद

पहले सा खूबसूरत अब नहीं लगता ।।


By Suchita Joshi






0 views0 comments

Recent Posts

See All

By Manasvi Srivastava Today, I sit in front of my mirror Talking to a face looking back at me; We ’re working through our problems together and I ending up a decision that whatever I do... I would nev

By Anishka Majethia Amidst the chaos of creating formation An artist has to struggle to find inspiration, Amidst bearing the verbal thrust An artist has to build unbreakable self-trust, Amidst being c

By Anishka Majethia Life will be fire, and you will be on heights But it will also douse the fire and prepare you for fights, And then the burning flame, ‘in yourself’ you will find Believe it or not…