• hashtagkalakar

लड़ना है ख़ुद ही, भला कौन लड़ेगा पराया ?

Updated: Sep 20

By Zala Dilipsinh Mansinh


तू जान ऊपरवालेकी यही तो है माया;

कहीं खिलाए धूप वो, तो कहीं रखे छाया।

हो युद्ध अगर रणका, या हो चाहे जीवनका;

लड़ना है ख़ुद ही भला, कौन लड़ेगा पराया ? ..... (1)


मत सोच तू परिणाम को, संग्राम के विश्राम को;

चल उठा खड़ग और वार कर, बाधाओं का प्रतिकार कर।

जो नींद चैन की सोए हैं, अंतत: सिर्फ रोए है ।

जो मुक बधीर, है शिथिल शरीर, उन्मत कहा ये जान पाया?

लड़ना है ख़ुद ही भला, कौन लड़ेगा पराया ? ..... (2)





संघर्ष ही तो समाधान है, बस यही तेरी पहेचान है।

उठा शीश, आगाज़ कर; कर शंखनाद, संधान कर।

कब तक छुपे रहोगे यू, नादानी के आंचल में?


जानलो, विपदाएं है मिली तुम्हे विरासत में।

जो नहीं जला कभी आग में; सोना कहा वो हो पाया ।

लड़ना है ख़ुद ही भला, कौन लड़ेगा पराया ? ..... (3)


Ladana hai khud hi, bhala kaun ladega paraaya?


Tu jaan uparwaleki yahi toh hai maya;

Kahi khilae dhoop woh, to kahi rakhkhe chhayaa.

Ho yuddh agar ran ka, ya ho chahe jivan ka;

Ladana hai khud hi bhala, kaun ladega paraaya? ...... (1)


Mat soch tu parinaam ko, sangram ke vishraam ko.

Chal utha khadag aur vaar kar, baadhaaon ka pratikaar kar.

Jo nind chain ki soye hai, antatah sirf roye hai.

Jo muk badhir, hai sheethil shareer, unmatt, Kahan ye jaan


paaya?


Ladana hai khud hi bhala, kaun ladega paraaya? ....... (2)


Sangharsh hi to samadhaan hai, bas yahi teri pahechaan hai.

Utha shish, aagaaz kar, kar shankhanaad, sandhan kar.

Kab tak chhupe rahoge yoo, naadaanike aanchal me?

Jaanlo vipadae hai mili tumhe virasat mai!

Joh jala nahi kabhi aag mai, Sona kaha woh ho paaya?

Ladana hai khud hi bhala, kaun ladega paraaya?...... (3)


By Zala Dilipsinh Mansinh




0 views0 comments

Recent Posts

See All

By Pallavi Kansara उम्र के ऐसे पड़ाव पर, जहां इंसान समझदार जिम्मेदार हो जाता है , उसी पड़ाव पर हम मिले, और दिमाग ने मंजूरी दी, दिल तो बच्चा है जी| हमेशा दिल इसी कशमकश में रहता है , कि आगे बढ़ो या थम ज

By Sakshi Kesharwani My broken seat. Your broken heart. Our broken mind. Their broken peace. Broken our we, every bit of you. every bit of me. And yet the fallen souls. have risen to the clouds, wreck

By Priyanka Mahadevan Take me to the place where the wildflowers bloom To see the pansies and violets dotted on meadows, To go over the valleys and through the moors, Through the pines where the misty