top of page

मुमकिन नही

Updated: Feb 22

By Anjaanehssas


तेरे हुसन की तारिफ मुमकिन नही,

मैं कोशिश से कतरा जाऊ मुमकिन नही।


तेरी खुबसूरती बयां हो जाय मुमकिन नही,

तेरे जितना खुबसूरत जग मे कुछ और मुमकिन नही।


ना जाने कितने बरसो की मेहनत है तू,

तेरी तराश का सांचा उसके पास हो मुमकिन नही।



तेरी एक झलक पाने सफा ना टूटे मुमकिन नही,

तेरी खातर हर किताब लाल ना हो मुमकिन नही।


तेरी आँखो की चमक देख जुगनू मर जायें,

तुझे देख तारों का घमंड ना टुटे मुमकिन नही।


तुझे प्यास हो पानी की नदीयां रज़ाकार बन जायें,

तेरे होटों को छुहने खातर पानी ना आये मुमकिन नही।


तेरा उतारा लिबास तेरी खुशबू छोर दे मुमकिन नही,

तेरी खुशबू को दफ़्तर-ए-गुल ना तरसे मुमकिन नही।


By Anjaanehssas



10 views0 comments

Recent Posts

See All

Love

By Hemant Kumar जब जब इस मोड़ मुडा हूं मैं हर दफा मोहब्बत में टूट कर के जुड़ा हूं मैं शिक़ायत नहीं है जिसने तोड़ा मुझको टुकड़े-टुकड़े किया है शिक़ायत यही है हर टुकड़े में समाया , वो मेरा पिया है सितमग

Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
bottom of page