top of page

दिन भर हसने के बाद रात में क्यों रोते हो

By Himanshu Angad Rai



दिन भर हसने के बाद रात में क्यों रोते हो,

अपने घर का पता याद रखो बार-बार क्यों खोते हो।

इस कायनात में जिसको ढूँढते हो मिलेगा तो नहीं,

तुम आशिक हो जनाब अपनी कलम क्यों छोड़ते हो।।


By Himanshu Angad Rai



21 views1 comment

Recent Posts

See All

Shayari-3

By Vaishali Bhadauriya वो हमसे कहते थे आपके बिना हम रह नहीं सकते और आज उन्हें हमारे साथ सांस लेने में भी तकलीफ़ होती है................... यूं तो भीड़ में खड़े हैं हम पर तनहाईयों का एहसास हर पल है यूं

Shayari-2

By Vaishali Bhadauriya उनके बिन रोते भी हैं खुदा मेरी हर दुआ में उनके कुछ सजदे भी हैं वो तो चले गए हमें हमारे हाल पर छोड़ कर पर आज भी हमारी यादों में उनके कुछ हिस्से भी हैं................... रोतो को

Shayari-1

By Vaishali Bhadauriya इतना रंग तो कुदरत भी नहीं बदलता जितनी उसने अपनी फितरत बदल दी है भले ही वो बेवफा निकला हो पर उसने मेरी किस्मत बदल दी है................... हम बेवफा ना कहेंगे उनको शायद उनकी भी कु

1 commentaire

Noté 0 étoile sur 5.
Pas encore de note

Ajouter une note
Rashmi Tyagi
Rashmi Tyagi
20 sept. 2023
Noté 5 étoiles sur 5.

Nice

J'aime
bottom of page