top of page

इंसान की पहचान झांको

Updated: Feb 1

By Adyasha Pradhan



ना जाने कितने लेख अनलेख हुए,

भुजाओं के भंडार ,भय द्वार में ही शेष हुए। 

जला दिए पुश्तों के कारनामे,

ऐसे क्या ही विध्वंशक तानाशाह हुए।


आत्मसम्मान के ऊपर अनगिनत प्रहार हुए ,

अतिक्रमण से ना जाने कितने वाणी विराम हुए। 


सीने में जो आग थी, क्या वो चिंगारी(भभक) विडंबना के लिए पर्याप्त ना थी। 

ना जाने कितने हस्ती दफन हुए,

वतन से फिर भी गुमनाम हुए।


धैर्य के तुम परचम लहराते ;

ना जाने कितने  रंक-राजा रक्त से लहूलुहान हुए , 

फिर भी मज़हब से बदनाम हुए।



वो उदर कितने काल निराहार रहा;

ना जाने किस सत्कार का 

जहर घूंट पीकर उदार रहा,

ऐसे क्या ही ढीठ मानुस जन्म हुए।


तुम खेल गए शतरंज ;

ना जाने कितने नेता बलिदानी कहलाए ,

कितने घाट के धरोहर।


तुम कर्तव्य और व्यंग में अर्थ समझो

जो किताबों में है, उसका भी तुम प्रसंग समझो।


तुम वीर बलिदानियों का भी इतिहास झांको ;

वो भी एक नेता थे, तुम भी एक नेता हो –

खुद के अंदर इंसान की पहचान झांको।।


By Adyasha Pradhan




34 views2 comments

Recent Posts

See All

Ishq

By Hemant Kumar koi chingari thi us nazar me , ham nazar se nazar mila baithe faqat dil hi nahi , daman o dar jala baithe ta umr jala (hu) fir jalte jalte khaakh hua muhabbat raakh na hui me hi raakh

जब भी तेरी याद आएगी

By Divyani Singh जब भी तेरी याद या आएगी ना चाहते हुए भी... तेरे साथ न होने की कमी हमें रुआंसा कर जाएगी हंसते हुए होठों पर उदासी को लाएगी खुशी से सुर्ख आंखों में भी तेरी याद की प्यारी नामी दे जाएगी । ज

Maa

By Divyani Singh Zindagi ek khubsurat kissa hain .. Bin maa k adhura hissa hain... Maa jo pyaar sae Sula dey maa jo pyaar sae utha dey ...gam bhi agar kuch hain to maa ka sath ..khushi mein bhi kuch h

2 Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
Nivedita Pradhan
Nivedita Pradhan
Jan 16
Rated 5 out of 5 stars.

👍👍👍👍👍

Like

Manisha Pradhan
Manisha Pradhan
Jan 16
Rated 5 out of 5 stars.

Amazing 🤩

Like
bottom of page