top of page

आज काम बहुत है....

Updated: Feb 5

By Bithika Das



आज काम बहुत है! 

दिन भर यूं ही बैठे रहे, 

पर आज काम बहुत है! 

जागती आंखों से सपने देखते रहे, 

पर आज काम बहुत है!

पन्नों में स्याही उतरते रहे, 

पर आज काम बहुत है!!


By Bithika Das




64 views10 comments

Recent Posts

See All

Shayari-3

By Vaishali Bhadauriya वो हमसे कहते थे आपके बिना हम रह नहीं सकते और आज उन्हें हमारे साथ सांस लेने में भी तकलीफ़ होती है................... यूं तो भीड़ में खड़े हैं हम पर तनहाईयों का एहसास हर पल है यूं

Shayari-2

By Vaishali Bhadauriya उनके बिन रोते भी हैं खुदा मेरी हर दुआ में उनके कुछ सजदे भी हैं वो तो चले गए हमें हमारे हाल पर छोड़ कर पर आज भी हमारी यादों में उनके कुछ हिस्से भी हैं................... रोतो को

Shayari-1

By Vaishali Bhadauriya इतना रंग तो कुदरत भी नहीं बदलता जितनी उसने अपनी फितरत बदल दी है भले ही वो बेवफा निकला हो पर उसने मेरी किस्मत बदल दी है................... हम बेवफा ना कहेंगे उनको शायद उनकी भी कु

10 commentaires

Noté 0 étoile sur 5.
Pas encore de note

Ajouter une note
Reena Palauri
Reena Palauri
24 janv.
Noté 5 étoiles sur 5.

Excellent

J'aime

Manjulika Moitra
Manjulika Moitra
24 janv.
Noté 5 étoiles sur 5.

Good.

J'aime

Soma Dass
Soma Dass
24 janv.
Noté 5 étoiles sur 5.

Very good

J'aime

parash mandal
parash mandal
14 janv.
Noté 5 étoiles sur 5.

Super se

J'aime

swati negi
swati negi
14 janv.
Noté 5 étoiles sur 5.

Bohot pyara likha hai

J'aime
bottom of page